कबिता, भरोसा, barish, future, life, poetry, pyar, shuruaat

मज़बूत इरादे लेकर अब बस तू आगे बढ़

बहुत सोच लिया तूने अब सपनो को अपने पूरे कर,मज़बूत इरादे लेकर अब बस तू आगे बढ़, 1)बैठेगा युही हाथों मे हाथ धरे तो कुछ नही कर पायेगा,और ठानेगा जब कुछ करने की तो शायद समय नही रह जायेगा, हारेगा ना हिम्मत तो मुरझाई किस्मत भी खिल जायेगी, कोशिश करेगा हरदम तो चट्टानें भी हिल… Continue reading मज़बूत इरादे लेकर अब बस तू आगे बढ़

कबिता, नफरत, बारिश, barish, life, quotes, start, Uncategorized

नफ़रत

अपने मन में नफ़रत रखना ठीक उसी तरह है जेसे की आप खुद ज़हर पी रहे हैं और सोच रहे हैं कि दुश्मन मर जायेगा।

कबिता, जबलपुर, जिंदगी, प्यार, बारिश, भरोसा, यादें, barish, bhul gya tujhe, future, life, love, new, poetry, shuruaat, struggle

वो सफर

वो मेरे लिये खुशियों का खजाना हो गया, बिना उसके एक पल भी बिताना हो गया, हाँ था अनजान मैं उसके लिए वो मेरे लिए लेकिन लगने लगा उसे जाने एक जमाना हो गया।

कबिता, जबलपुर, प्यार, बरसात, बारिश, भरोसा, यादें, bhul gya tujhe, future, life, love, poetry, pyar, shuruaat, struggle, Uncategorized

वो सफर

जी हाँ मुझे उनसे बातें करने का इंतजार रहता था, और ये इंतजार बेख़ुमार रहता था, झूठ नहीं कहुंगा सच लिख रहा हु मुझे हर वक्त हर लम्हा उन्ही का नशा सवार रहता था।

Uncategorized

वो सफर

बस उसके जिक्र से आँखो में हल्की सी नमी क्यूँ रहती है, एक उसके न होने से ये राते मेरी थमी क्यूँ रहती है, हाँ जानता हूँ मैं कि नहीं है बो मेरी, लेकिन फिर भी उसके आने की आश क्यूँ रहती है?